love shayari

😍❤️💕🌳🌺🌻🌹🏵️🌿💐🍁💏ये खुदा तूने इंसान को क्या से क्या बना दिया ,
किसी को हीर तो किसी को राँझा बना दिया !
कितना बेबकूफ़ था शायजहाँ…………..
एक फूल का बोझ उठा नहीं सकती थी मुमताज ,
और उसके ऊपर ताज महल बनबा दिया !!

–😍❤️💕🌳🌺🌻🌹🏵️🌿💐🍁💏

Post a Comment

1 Comments

Like comment and subscribe